YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad2 contain advertising code here
YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad17 contain advertising code here

मेरी सिसकारिया


मेरी सिसकारिया. हेलो दोस्तों, मैं रश्मी हूँ, एक माँ और एक पत्नी, उम्र 40, वक्ष 34 और शरीर का माप 32 तक है। ये मेरी खुद की कहानी है। बात उन दिनों की है जब मैं और मेरे पति बिहार के पटना शहर में रहते थे। मेरे पति रेलवे में काम करते थे।
सब कुछ अच्छा चल रहा था जब उनका प्रमोशन हुआ और हम पटना आ गये। तब हमारी शादी को 7 साल हो चुके थे और मेरी एक बेटी भी थी 5 साल की। तोह अब सीधी कहानी पे अति हूं।
पटना आने के बाद मेरे पति कम से हमेशा देर से घर आये। करीब 10 बजे आना उनका आम हो गया था। इतने थके होते थे कि खाना खा के बस सो जाते थे। मेरी जवानी ख़त्म तो हुई नहीं थी. तोह पटना आने के कुछ महिनो बाद से अंदर की आग बड़ी गंदी वाली लगी रहती थी।
कभी-कभी मेरे पति जिनका नाम रमेश है। तो कभी रमेश का मूड बनता था पर चोदना शुरू नहीं होता था। पटना आने के 6 महीने बाद 11 अगस्त तारिक आई। ये तारीख बड़ी खास तारीख है. 11 अगस्त को मेरा और रमेश का 7 साल गिरह था।
रमेश का मूड भी अच्छा था. उन्हें सुबह जाते वक्त उस दिन, मुझे एक उपहार दिया, और बोला आज इसे रात को पहनना रखना और बेटी को सुला देना। मेरी चूत तो मानो तभी से गीली पड़ गई थी। तो रात में बेटी को जल्दी सुला दिया और नहा के मैंने गिफ्ट खोला, देखा तो डंग रह गई।
एक जले डर ब्रा थी गुलाबी रंग की और एक पेंटी जो भी जले डर था उसका फूल वाले डिज़ाइन बने। मैंने उसे पहचाना और उसके ऊपर कुछ नहीं डाला। चूत की गीली रस तभी से तपने लगी थी. बदन में मानो आग सी लग गई हो. रमेश ने कहा था कि वो साढ़े नौ बजे तक आ जायेंगे।
करीब दस बजने वाला था कि दरवाजे पर ख़त ख़तने की आवाज़ आई। मैं इतनी खुश हुई कि वैसे ही जले डर ब्रा पैंटी में भागी और दरवाजा खोल दिया। खुलते ही मेरी बदन शर्म से थार-थारा उठा। रमेश का सहायक (रमन) दरवाजे पर खड़ा था और मैं उसके सामने लग भाग नंगी थी।

रमन ने मुझे जी भर के घूरा। तब तक मैं भी दरवाजा बंद करके जल्दी से कपड़ा पहन ली। बड़ी शर्मिंदगी से वापस दरवाजा खोला। तोह रमन बोला कि सर को इमरजेंसी काम मिल गया है तो आज रात नहीं आ पाएंगे। उनका फोन ख़राब है और उन्हें ये तोहफा भेजा है।
मैंने चुप चाप ले लिया और दरवाजा बंद कर दिया। मुझे रमेश पर बहुत गुस्सा आ रहा था, और शर्म अलग से। उस रात मैं सो नहीं पाई. फिर दिन यूं कट गए. एक दिन रमेश घर आये तो साथ में रमन भी आया था। उपयोग देख के मैं फिर शर्मा गई।
रमेश- रश्मी जरा चाय बना लाओ. रमन कल छुट्टी पर जा रहा है। आज एक दिन हमारा घर रहेगा। क्योंकि यहां से एयरपोर्ट पास पड़ता है इसलिए।
रमन- नमस्ते भाभी जी, मेरे क्वार्टर में रेनोवेशन का काम हुआ है। तो वहां से सब पैक कर दिया।
मैं बोली ठीक है फिर चाय देने मैं गई। रमन के सामने चाय लेके झुकी तो मैंने ध्यान दिया कि वो मुझे घूर रहा था। मेरी कुर्ती से मेरी चूची दिख रही थी। मैं गुस्से में चाय देके वापस चली गई। उस रात को रमेश ने फर चुदाई करने की कोशिश की और फिर कुछ मिनट में देह हो गई।
हमारा बाथरूम बेडरूम के बाहर था. तो मैंने नाइटी का गाउन बांधा और मैं बाथरूम चली गई। रमेश वहां नंगा सो गया था. मैं भूल गई थी कि रमन भी घर पर है। तो मैं बाथरूम गई और दरवाजे पर कुंडी ना लगाके बस बंद कर दिया।
मैंने फिर अपना गाउन उतारा और नहा ही रही थी कि रमन ने दरवाजा खोला। इस बार मैं पूरी नंगी खादी थू और बदन भी भीगा था। मेरा दिमाग जैसा काम करना बंद कर दिया हमें वक्त। मैं कुछ और कर पति इस से पहले रमन बाथरूम के अंदर आ चुका था।

मेरी नज़र उसके पजामे के अंदर उभरे हुए पहाड़ पर गई। मैं चौंकी हुई थी उसको देख के कि रमन ने मुझे गले लगा दिया। मेरी बदन को गरम करने का काम रमेश ने पूरा कर दिया था। और गरमी भुजाने की आग मैंने रमन को नकारा नहीं। बाल्की मैंने बाथरूम का दरवाजा बंद कर दिया।
उतने देर में रमन के हाथ मेरे बड़े चूचियो पे मैंने आंखे मूंद के रमन के चूमने का मजा लिया। हमें वक्त गर्मी ऐसी थी कि बेटी और रमेश दोनों को भूला चुकी थी मैं। तभी रमन के हाथ मेरी चूत पे जा पड़ी। उसकी उंगली मेरी चूत को धीरे-धीरे से सहला रही थी।
और तभी उसने अचानक से एक उंगली झटके से अंदर डाली। मैं चिल्ला उठी. मेरी सिस्कारिया तेज होने लगी थी. तभी मुझे रमेश की आवाज सुनाई दी। रमेश बेडरूम से चिल्ला रहे थे वापस आने के लिए। तो मैंने जल्दी से रमन से अलग होके वैसे ही बिना कपड़ों के चली गई।
मैं रमेश के साथ लेती थी. रमेश के छोटे लंड को देख रही थी और रमेश के छोटे लंड को देख रही थी। मन में रमन के पतलून के अंदर के पहाड़ को मन से उतर ही नहीं पा रही थी। ये सोचते सोचते मेरी चूत ऐसी गीली हुई कि चूत में उंगली करके भी संतुष्टि प्राप्त नहीं हो पा रही थी।
करीब 3 बज रहे थे. मैं उठी और ब्रा पैंटी पहनी उसके ऊपर एक नाइटी डाल दी और कमरे से बाहर आई। रमन हमारी बेटी के कमरे के सोफे पर सो रहा था। मैं धीरे से हमारे कमरे पर चली गयी। रमन लेता हुआ था. मैं धीरे से उसके पास गई और उसकी बातचीत को देख रही थी।
फिर मेरी अंदर की गर्मी ने उसके पतलून के ऊपर मेरा हाथ रखवा ही दिया। थोड़ी देर मैंने उसे सोए लंड पर हाथ रखा ही था कि वो खड़ा होने लगा। मुझे लगा रमन अभी नींद से उठ जाएगा इसलिए मैं वापस लौटने लगी और पीछे से आवाज आई।
रमन भाभी भाग किसलिए रही हैं आप?
मैं पीछे मुड़ी तो हक्का बक्का रह गई। रमन ने अपना लंड पतलून से निकल रखा था।

उसका खड़ा लंड इतना काला और मोटा और लंबा था कि मैं बस उसी को देखती रह गई। रमन उठ के आया और मुझे अपना पास बिठा दिया। मेरे नाइटी के ऊपर से चूत सहलाने लगा।
फिर धीरे से उसने अपनी नाइटी के अंदर सरकने लगा। मैं बोली, "ये ग़लत है।" तब उसने मेरे चूत पर हाथ लगा दी और कहा, "गलती कर ले फ़िर?" मैं इतनी गरम हो गई थी कि मैंने उसके लंड को पकड़ लिया। रमेशा का लंड तो उसके लंड का आधा भी नहीं था.
इतना मोटा कि मेरे हाथ में पूरा सिमत न पाया और करीब 9 इंच लंबा। और घटिये तो मानो रस से भरे पड़े हो। मैंने उसका लंड हिलाना शुरू कर दिया। इतने में उसने मेरी नाइटी को उम्र से फाड़ दिया और ब्रा में से चुची निकली और चुनने लगा।
थोड़ी देर में मेरी नाइटी को उसने पेट पे अटका लिया था और मेरी कच्ची भी फाड़ दी थी। उसके हाथ मेरी चूत के गीले रस निकल के मेरी मुँह में डाले जा रहे थे।और मैं भी पूरे मजे में उसके शरीर से उसका थूक भरा चुम्मा ले जा रही थी। तभी उसने मुझे बिठा दिया।
मैं समझ गई थी कि लोडे को मुँह में लेने की बारी आ गई है। मैंने पूरा थूक लगा के गीला किया उसके लंड को। फ़िर धीरे-धीरे उसे मुँह में ले लेती है। वो इस वक्त सिस्कारिया दिए जा रहा था. थोड़ी देर लंड चूसा ही था कि वो मेरे मुँह में से लंड निकल के मुझे पूरा नंगा कर दिया।
फिर मुझे मेरी बेटी के बगल में लिटा दिया। और मेरी टैंगो को फेला के बीच में चला गया। और उसने अपनी जीभ से मेरी चूत चटनी शुरू कर दी। मेरी चूत में उसके जीब का एक स्पर्श मेरी बदन को मरोड़ रही थी। मेरी बेटी उठ ना जाये इसलिए मैं सिस्कारिया दबाये जा रही थी।
मेरी अंखियां बंद थी और चूत चटवाने की मजे ले रही थी। अचानक से उसने अपना मोटा लम्बा लंड मेरी चूत में घुसा दिया, और उसने अपना मुँह बंद कर दिया। मैं चीख रही थी पर आवाज दब गई। उसने धीरे-धीरे करके पूरा लंड अंदर डाल दिया।
फिर मुँह से हाथ हटा लिया। मैं जोर जोर से सांस ले रही थी, तब उसने लंड बाहर निकाला। मेरी चूत पूरी फेल हो गई थी और पूरा बदन अलग सा महसूस करने लगा था। तभी उसने फिर अंदर डाला और चोदना शुरू किया। मैं चुद रही थी और बड़ा मजा आ रहा था।

थोड़े देर चोदने के बाद उसने मुझे हॉल में लेके गया और लेता के जोर जोर से झटके देने लगा। मानो मेरी बदन में बुलडोजर चल रहा हो और मैं जोर जोर से सिस्कारिया ले रही थी। मैं रमेश और बेटी को भूल चुकी थी। बस अपनी चूत मरवाने की ख़ुशी थू।
फ़िर उसने मुझे उठाया और चोदने लगा। एक एक झटके में मेरी चूत फेली जा रही थी। थोड़े देर वैसे चोदने के बाद उसने मुझे अपना ऊपर बिठा लिया और बोला, "जितनी जोर की उछल सकती है उछल।" मैं भी चुद्दकड़ पूरे मजे में अपने चुचियो को दबाते हुए उसके लंड पे उछलती रही।
थोड़ी देर में वो मेरी चूत में ही झड़ गया। मैं उतनी थक गई थी, और मेरी जोड़ी तो महसूस ही नहीं हो रही। उसने मुझे अपना साथ दिया रख और मेरे से अपने लंड का बाकी बचा रस चूसवाया। फिर उसने मुझे मेरी पत्नी के बगल में ले दिया।
सुबह जब मेरे पति ने मुझे उठाया तो पूछे, "चूत में इतना पानी छोड़ दिया था मैंने। प्रेग्नेंट तो नहीं होगी ना तू?" मैं हंसी और बोली, "हो भी गई तो क्या हुआ? मजा आया ना, बस।"
इसके आगे क्या हुआ कैसे हुआ जान ना है तो बताओ कैसी थी ये कहानी। और लड़की अगर चुदाई की टिप्स चाहती है तो पूछने में परेशानी ना रखे।

dicoporn.com
YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad18 contain advertising code here

मेरी सिसकारिया

Title: मेरी सिसकारिया

Views:   0 views

Added on: January 30th, 2024

 sex stories in hindi

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
(0%)

YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad16 contain advertising code here

Related Videos

YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad26 contain advertising code here

Bhabhi Sex Story in Hindi

YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad27 contain advertising code here
YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad26 contain advertising code here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad27 contain advertising code here
YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad12 contain advertising code here
YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad13 contain advertising code here
YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad14 contain advertising code here
YOUR AD HERE

Login to wp-admin and go to Appearance -> Widgets -> BlackTheme_Ad15 contain advertising code here

Are you 21 or older? This website requires you to be 21 years of age or older. Please verify your age to view the content, or click "Exit" to leave.